7 June 2019 Current Affairs

अंतराष्ट्रीय

फेसबुक ने  पहला इंटरैक्टिव गेम शो “कन्फेटी” लांच किया

फेसबुक ने भारत में पहला इंटरैक्टिव गेम शो “कन्फेटी” लांच किया। इसकी घोषणा मुंबई में फेसबुक के सोशल एंटरटेनमेंट समिट के दौरान की गयी।

कन्फेटी

  • यह भारत में फेसबुक का पहला आधिकारिक शो है, यह शो 12 जून, 2019 से शुरू होगा।
  • इसका प्रसारण बुधवार से रविवार के बीच “फेसबुक वाच” पर किया जायेगा, यह फेसबुक का विडियो प्लेटफार्म है।
  • इस गेम शो में विजेता को प्रतिदिन 3 लाख रुपये इनामस्वरुप प्रदान किये जायेंगे, इसमें पॉप कल्चर से सम्बंधित सवाल पूछे जायेंगे।
  • इस इंटरैक्टिव गेम को पहले अमेरिका में लांच किया गया था। अब इसके संस्करणों का आयोजन यूनाइटेड किंगडम, मेक्सिको, कनाडा, वियतनाम, फिलीपींस तथा थाईलैंड में किया जा रहा है।

निधन

मशहूर शेफ जसपाल इंदर सिंह कालरा उर्फ जिग्स कालरा का 71 साल की उम्र में निधन

मशहूर शेफ और पाक पुनरुत्थानवादी जसपाल इंदर सिंह कालरा (71) का  नई दिल्ली में निधन हो गया है। उन्होंने ‘इंडियन कजिन्स’ और ‘टशन मेकर टू द नेशन’ जैसे एपिसोड अर्जित किए, और उन्हें जिग्स कालरा के नाम से जाना जाता था। कालरा पहले एशियाई थे जिन्हें इंटरनेशनल फूड एंड बेवरेज गॉरमेट हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया था।

जसपाल इंदर सिंह कालरा

  • 21 मई, 1948 को जन्मे कालरा एक अग्रणी खाद्य स्तंभकार, लेखक और खाद्य सलाहकार थे। 
  • दशक के करीब के करियर में, उन्होंने भारतीय दर्शकों को अंतरराष्ट्रीय दर्शकों के साथ-साथ उसी के मानक स्थापित करने में मदद की।
  • उन्हें देश के सबसे समीक्षकों और प्रशंसित रेस्तरां में से कुछ को स्थापित करने का श्रेय भी दिया जाता है।
  • उन्होंने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के अलावा, ब्रिटिश रॉयल्स प्रिंस चार्ल्स और दिवंगत राजकुमारी डायना की पसंद को परोसने के अलावा विभिन्न अंतरराष्ट्रीय खाद्य समारोहों और शिखर सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया।
  • वह जिगल्स कालरा, मेड इन पंजाब, फ़र्ज़ी कैफे और पा पा हां द्वारा मसाला लाइब्रेरी जैसे रेस्तरां लॉन्च करने के पीछे थे।

नियुक्ति

आरबीआई ने एक्सिस बैंक के अध्यक्ष के रूप में राकेश मखीजा की नियुक्ति को मंजूरी दी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक्सिस बैंक के अध्यक्ष के रूप में राकेश मखीजा की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है।बैंक के बोर्ड ने मार्च में आरबीआई की मंजूरी के तहत मखीजा की नियुक्ति को मंजूरी दी थी।वह 1, जुलाई, 2019 से 20 जुलाई, 2022 तक प्रभावी होने के साथ, 3 वर्षों के लिए बैंक के अध्यक्ष के रूप में कार्य करेंगे।उन्होंने इससे पहले SKF समूह के कई शीर्ष प्रबंधन पदों पर कार्य किया है।

ऐक्सिस बैंक

  • ऐक्सिस बैंक (Axis bank) (पुराना नाम यूटीआई बैंक) भारत का एक प्रमुख निजी क्षेत्र का बैंक है। निजी क्षेत्र में बैंकों की स्थापना पर भारत सरकार की अनुज्ञा के बाद, 1994 यानी अपने कामकाज की शुरुआत के बाद से, निजी क्षेत्र के नए बैंकों में ऐक्सिस बैंक (Axis bank) ही पहला था।
  • स्थापना के समय इस बैंक का नाम यूटीआई बैंक था जिसे बाद में बदलकर ऐक्सिस बैंक कर दिया गया।
  • इस बैंक को भारतीय यूनिट ट्रस्ट (यूटीआई – आई), भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) तथा भारतीय सामान्य बीमा निगम (जीआईसी) एवं सार्वजनिक उपक्रम की चार बीमा कंपनियां अर्थात [नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड], [द न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड], [द ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड] और [यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड] ने संयुक्त रूप से प्रोन्नत किया।

पुरस्कार

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को ग्लोबल लीडरशिप अवार्ड

गूगल के भारत में जन्मे सीईओ सुंदर पिचाई और नैस्डैक अध्यक्ष एडेना फ्रीडमैन को प्रतिष्ठित ग्लोबल लीडरशिप अवार्ड्स 2019 के लिए चुना गया है।यह पुरस्कार व्यावसायिक वकालत करने वाले समूह USIBC द्वारा दो कंपनियों के अग्रणी प्रौद्योगिकी-संचालित प्लेटफ़ॉर्म के योगदान के लिए दिया गया है।वाशिंगटन स्थित यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) द्वारा यह पुरस्कार अगले सप्ताह के ‘भारत विचार शिखर सम्मेलन’ के दौरान भारतीय-अमेरिकी पिचाई और फ्रीडमैन को प्रदान किया जाएगा।

2007 से प्रतिवर्ष दिए जाने वाले, USIBC ग्लोबल लीडरशिप अवार्ड्स संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत के शीर्ष कॉर्पोरेट अधिकारियों को मान्यता देते हैं, जिनकी कंपनियां अमेरिका-भारत वाणिज्यिक गलियारे में विकास को उत्प्रेरित करने में प्रमुख भूमिका निभाती हैं।

सुंदर पिचाई

  • पिचाई का जन्म मदुरै, तमिलनाडु, भारत मे  तमिल परिवार में लक्ष्मी और रघुनाथ पिचाई के घर हुआ।
  • ‘पिचाई सुंदर राजन’ [अल्फाबेट कंपनी] के ‘गूगल खोज’ नामक अनुभाग के सीईओ हैं।
  • गूगल ने अपनी कंपनी का नाम अल्फ़ाबेट में बदल दिया। इसके बाद लेरी पेज ने गूगल खोज नामक कंपनी का सीईओ सुंदर पिचाई को बना दिया और स्वयं अल्फाबेट कंपनी के सीईओ बन गए।पद ग्रहण 2 अक्टूबर 2015 को किया।
  • वह 2004 में गूगल में आए। जहाँ वे गूगल के उत्पाद जिसमें गूगल क्रोम, क्रोम ओएस शामिल है। इसके बाद वह गूगल ड्राइव परियोजना का हिस्सा बने।

राष्ट्रीय

सहारा इंडिया ने रखा इलेक्ट्रिक वाहनों के क्षेत्र में कदम

सहारा समूह ने  “सहारा इवोल्स” ब्रांड नाम के साथ विद्युत् वाहन सेक्टर में प्रवेश करने की घोषणा की है। इस नए ब्रांड के तहत सहारा विभिन्न किस्म के विद्युत् वाहनों का उत्पादन करेगा। इससे टियर-II और ईईसी शहरों में विद्युत् वाहनों के कारोबार में वृद्धि हो सकती है।

सहारा इवोल्स

  • सहारा इवोल्स द्वारा विद्युत् स्कूटर, थ्री-व्हीलर, मोटरसाइकिल तथा विद्युत् कार्गो वाहनों का उत्पादन किया जाएगा।
  • इसके तहत बैटरी-चार्जिंग तथा स्वैपिंग स्टेशनों की स्थापना भी की जायेगी।सहारा इवोल्स की शुरुआत लखनऊ से होगी, बाद में देश के अन्य टियर-II तथा III शहरों में भी सहारा अपनी उपस्थित दर्ज करवाएगा।
  • देश भर में अगले वित्त वर्ष तक सहारा के उत्पाद लांच हो जायेंगे। सहारा एवोल्स के विद्युत् वाहनों में शुष्क लिथियम-आयन बैटरी उपयोग की जायेंगी।
  • इससे वाहन को चलाने की लागत 20 पैसे प्रति किलोमीटर तक जा सकती है (पेट्रोल वाहन को चलाने की औसत लागत 2 रुपये प्रति किलोमीटर है)।

महाराणा प्रताप जयंती 6 जून को मनाई गई

6 जून को महान राजपूत योद्धा महाराणा प्रताप की जन्म वर्षगाँठ के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष महाराणा प्रताप की 479वीं जन्म वर्षगाँठ मनाई जा रही है।

महाराणा प्रताप के बारे

  • महाराणा प्रताप मेवाड़ के 13वें राजपूत शासक थे, मेवाड़ वर्तमान राजस्थान में आता है। मेवाड़ में मध्य प्रदेश और गुजरात के कुछ हिस्से भी शामिल थे।
  • महाराणा प्रताप, महाराणा उदय सिंह तथा महारानी जयवन्ता बाई के सबसे बड़े पुत्र थे। वे 1572 में उदय सिंह की मृत्यु के बाद मेवाड़ के शासक बने।
  • महाराणा प्रताप को राजपूत वीरता, साहस तथा श्रम  के प्रतीक के रूप में देखा जाता है। वे सबसे ताकतवर राजपूत योद्धाओं में से एक थे, उन्होंने मुगलों का सामना वीरतापूर्वक किया।
  • महाराणा प्रताप का प्रसिद्ध घोड़ा चेतक था, उनके वफादार हाथी का नाम “रामप्रसाद” था।
  • हल्दीघाटी की लड़ाई महाराणा प्रताप तथा मान सिंह प्रथम के नेतृत्व में अकबर की सेना के बीच लड़ी गयी थी। यह लड़ाई आमेर में 18 जून, 1576 को लड़ी गयी। हालाँकि इस युद्ध में मुग़ल विजयी रहे, परन्तु इस लड़ाई में मुग़ल महाराणा प्रताप तथा उनके किसी करीबी को कैद नहीं कर सके।
  • महाराणा प्रताप का निधन 19 जून, 1597 को हुआ था। उनके निधन के बाद उनके सबसे बड़े पुत्र अमर सिंह प्रथम शासक बने।

व्यापार एवं अर्थव्यवस्था

प्रथम एसडीजी लैंगिक सूचकांक में 95वें पायदान पर भारत

प्रथम एसडीजी जेंडर इंडेक्स (SDG Gender Index) में विश्व के 129 देशों में भारत को 95वीं रैंकिंग प्राप्त हुयी है।सूचकांक में डेनमार्क, फिनलैंड, स्वीडेन, नॉर्वे एवं नीदरलैंड सर्वोच्च पांच स्थान पर हैं। डेनमार्क का स्कोर 89.3 है।सियरा लियोन, लाइबेरिया, नाइजीरिया, माली निम्नतम रैंकिंग वाले देश हैं।

एसडीजी सूचकांक के बारे में

  • यह सूचकांक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित लक्ष्यों की तुलना में लैंगिक प्रतिबध्ता की दिशा में किए गए प्रयास का मापन करता है।
  • यह सूचकांक इक्वेल मीजर्स 2030 (Equal Measures 2030) द्वारा विकसित किया गया है।
  • इस सूचकांक के मुताबिक विश्व के किसी भी देश ने लैंगिक समानता के वादे को पूरी तरह नहीं निभाया है और इस मामले में वैश्विक स्कोर 100 में से 65.7 है जो ‘खराब’ श्रेणी में आता है।
  • इस सूचकांक में सतत विकास लक्ष्य के 17 लक्ष्यों में से 14 में प्रदर्शन का मापन किया गया है।
  • इसका यह मतलब है कि विश्व के 1.4 अरब यानी विश्व की लड़कियों एवं महिलाओं का 40 प्रतिशत ऐसे देशों में रह रही हैं जहां लैंगिक समानता कम हो रही है।
  • सर्वोच्च रैंकिंग वाले डेनमार्क का स्कोर 89.3 है जबकि भारत का स्कोर 56.2 है जो वैश्विक स्कोर से भी कम है।
  • भारत ने सर्वाधिक स्कोर स्वास्थ्य (79.9), भूख एवं पोषण (76.2) व ऊर्जा (71.8) में हासिल किया है जबकि सबसे कम स्कोर साझेदारी (18.3), उद्योग, अवसंरचना व इनोवेशन (38.1) में प्राप्त किया है

रिजर्व बैंक का वित्तीय साक्षरता सप्ताह 3 से 7 जून

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 3 जून से 7 जून, 2019 को वित्तीय साक्षरता सप्ताह-2019 मनाये जाने की घोषणा की गई है. वर्ष-2019 के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक का विषय है – “किसान और वे किस प्रकार औपचारिक बैंकिंग प्रणाली से लाभान्वित हो रहे हैं.” इस सप्ताह के दौरान देश के किसानों को वित्तीय साक्षरता प्रदान की जायेगी तथा उन्हें विभिन्न वित्तीय पहलुओं से अवगत कराया जायेगा.भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा सभी बैंकों को अपनी ग्रामीण शाखाओं में वित्तीय साक्षरता से सम्बंधित पोस्टर व अन्य जानकारी युक्त सामग्री प्रदर्शित करने के लिए निर्देश दिए गये हैं. इसके अलावा दूरदर्शन तथा आल इंडिया रेडियो पर भी वित्तीय साक्षरता के बारे में प्रचार किया जाएगा.

आरबीआई साक्षरता सप्ताह-2019

  • भारतीय रिज़र्व बैंक-2019 3 जून से 7 जून 2019 तक मनाया जायेगा. इसमें पोस्टर, वीडियो, फिल्मों के माध्यम से जानकारी प्रदान की जाएगी.
  • वित्तीय जागरुकता सन्देश में 11 संस्थाओं/उत्पाद तदर्थ वित्तीय जागरूकता संदेश हैं जैसे खाता खोलते समय प्रस्तुत कराए जाने वाले दस्तावेज (केवाईसी), बजटिंग, बचत और जिम्मेदाराना उधार का महत्व, ऋण समय पर चुकाकर अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखना, आपके दरवाजे पर या पास में बैंकिंग, बैंक और बैंकिंग लोकपाल के पास शिकायत दर्ज कराने का तरीका, इलेक्ट्रॉनिक विप्रेषणों का उपयोग, केवल पंजीकृत संस्थाओं में ही पैसे का निवेश करना आदि.
  • भारतीय रिजर्व बैंक ने पाँच लक्ष्य समूहों अर्थात किसानों, लघु उद्यमियों , स्कूली बच्चों , स्वयं सहायता समूहों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए आवश्यकता आधारित वित्तीय सामग्री विकसित की है जिसका उपयोग प्रशिक्षुओं द्वारा वित्तीय साक्षारता कार्यकर्मों में किया जा सकता है.
  •  

सम्मेलन

ब्यूनस आयर्स में ‘दूसरा वैश्विक विकलांगता शिखर सम्मेलन’ आयोजित किया जाएगा

दूसरा वैश्विक विकलांगता शिखर सम्मेलन’ अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में आयोजित किया जाएगा। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत करेंगे।

 24 जुलाई 2018 को पहली बार ग्लोबल डिसेबिलिटी समिट लंदन, यूनाइटेड किंगडम (यूके) में आयोजित की गई थी। इसकी मेजबानी यूके डिपार्टमेंट फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूके डीएफआईडी) ने की थी, साथ में सह-होस्ट इंटरनेशनल डिसेबिलिटी एलायंस (आईडीए) भी था। शिखर सम्मेलन में 40 से अधिक देशों (भारत सहित) के वैश्विक नेताओं ने भाग लिया, जिन्होंने विकलांग व्यक्तियों के आर्थिक सशक्तीकरण की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध किया।

उद्देश्य:

  • दुनिया भर में विकलांग व्यक्तियों (पीडब्ल्यूडी) के सशक्तिकरण और समावेश से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श करना।
  • एक तंत्र का काम करना ताकि PwD को एक स्वतंत्र और गरिमापूर्ण जीवन जीने में सक्षम बनाया जा सके।

महत्व:

  • शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले वैश्विक नेता PwD के खिलाफ कलंक और भेदभाव को खत्म करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त करते हैं और सहायक उपकरणों में समावेशी शिक्षा, आर्थिक सशक्तिकरण, प्रौद्योगिकी और नवाचार को बढ़ावा देने की दिशा में काम करते हैं।

Leave a Reply